Spread the love

लम्बे हसीं बाल महिलाओ की खूबसूरती में चार चाँद लगा देते है महिलाओं की खूबसूरती को लंबे और घने बालों के साथ भी जोड़कर देखा जाता है.

लंबे बालों वाली महिलाओं के प्रति लोग ज्यादा एटरेक्ट होते हैं एक रिपोर्ट्स में ये बात सामने आयी है की अगर महिला के बाल लम्बे है और खूबसूरत है तो लोग उनकी तरफ एटरेक्ट होते है.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by @chiararomerio

चीन में एक गांव है वहां की महिलाओं के बाल पूरी दुनिया में चर्चा का विषय रहते हैं पता है किसलिए? इसलिए क्योंकि वहां हर महिला के बाल बहुत ज्यादा ही लंबे हैं और सुंदर भी.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Selena Chan (@selenachanlive)

वहा की ये प्रथा ही है जिसकी वजह से इस गांव का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है इसके कारण इस गांव को ‘दुनिया के पहले लंबे बाल वाले गांव’ के रूप में जाना जाता है.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by İSMİNEYDİ (@ismineydicom)

ये गांव चीन के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है और गुइलिन प्रांत में बसा गांव हुआंग्लुओ यहां एक समाज है जिसे याओ समाज के नाम से जाना जाता है उनकी महिलाओं में लंबे बाल रखने की सदियों पुरानी परंपरा है.

याओ समाज की महिलाएं अपनी पूरी ज़िन्दगी में एक ही बार बाल कटवाती हैं और वो भी अपनी शादी से पहले उनके बालों की एवरेज लंबाई 2.3 मीटर होती है और हर साल उनके बालों की खूबसूरती का जश्न एक फेस्टीवल के रूप में मनाया जाता है इस दौरान सारी महिलाएं जिंजियांग नदी पर आकर अपने बाल धोती हैं, उन्हें संवारती हैं.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Michele🐉 (@kilgorene)

इस गांव में बाल लंबे रखने की प्रथा के पीछे एक कारण और भी है स्थानीय लोगों का ये भी मानना है कि महिलाओं के बाल जितने ज्यादा लंबे होंगे वो अपने परिवार के लिए उतनी ही लकी होंगी और उनका मानना है कि लंबे बाल लंबी आयु, संपन्नता और अच्छे सौभाग्य का प्रतीक होते हैं.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Juan Nogueira (@juanenchina)

पहले तो उनके समाज में अलग मान्यता थी और उस दौर में महिलाओं के बाल केवल उनके पति और बच्चे ही देख सकते थे लेकिन अगर किसी अन्य पुरुष ने किसी महिला के बाल बिना स्कार्फ के देख लिए तो पुरुष को लड़की के घर 3 साल तक पति की तरह रहना पड़ता था पर साल 1987 में ये प्रथा खत्म की गई और अब महिलाएं अपने बाल हवा में लहरा सकती हैं