Spread the love

बेंगलुरु: कक्षाओं में हिजाब पहनने से संबंधित संकट के बीच, एक अमृतधारी सिख लड़की को 10 फरवरी के अंतरिम आदेश के अनुसार यहां के प्रतिष्ठित माउंट कार्मेल पीयू कॉलेज में अपनी पगड़ी उतारने के लिए कहा गया। कॉलेज के कुछ अभिभावकों ने भी अपनी बेटियों को हिजाब को लेकर निशाना बनाए जाने की शिकायत की।

बता दें कि हिजाब विवाद की सुनवाई कर रही हाईकोर्ट की विशेष पीठ ने बुधवार को स्पष्ट कर दिया है कि जब तक मामले का निपटारा नहीं हो जाता तब तक पीयू के साथ-साथ स्नातक कॉलेजों में कक्षाओं में किसी भी धार्मिक चिन्ह की अनुमति नहीं है।

माउंट कार्मेल पीयू कॉलेज के कॉलेज अधिकारियों ने एक सिख छात्राओं को उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए अपनी पगड़ी उतारने को कहा। अधिकारियों ने इसके बारे में उसके पिता को भी मेल किया। 16 फरवरी को लड़की से पगड़ी उतारने को कहा गया, लेकिन वह नहीं मानी। हालांकि, जब पीयू शिक्षा के उप निदेशक जी. श्रीराम ने कॉलेज का दौरा किया और छात्राओं से हिजाब नहीं पहनने के लिए कहा, तो उन्होंने मांग की कि धार्मिक प्रतीकों को पहनने वाले अन्य लोगों को भी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

स्कूल के अधिकारियों ने सिख लड़की के पिता को स्थिति के बारे में सूचित किया और उसके परिवार ने कॉलेज को सूचित किया कि वह अपनी पगड़ी नहीं उतारेगी और वे इस मुद्दे पर कानूनी राय लेंगे। शिक्षा विभाग का कहना है कि हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश में पगड़ी की बात नहीं है।