Spread the love

हम ट्रेन में इसलिए सफर करते है मि हम कही जल्दी पहुंच सकजे आपने अब तक दुनिया की सबसे तेज चलने वाली ट्रेनों के बारे में तो सुना होगा, लेकिन आज तक दुनिया की सबसे धीरे चलने वाली ट्रेन के बारे में नहीं सुना होगा.

 आज हम आपको दुनिया की सबसे धीमी गति से चलने वाली ट्रेन के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसकी स्पीड लगभग साइकिल के बराबर है तो आप समझ सकते है की ये कितनी धीमी चलती होगी . दरअसल, दुनिया की सबसे धीमी गति से चलने वाली ट्रेन स्विट्जरलैंड में है. इस ट्रेन का नाम ग्लेशियर एक्सप्रेस है.

आपको बता दें कि ग्लेशियर एक्सप्रेस ट्रेन स्विट्जरलैंड की ऊंची पहाड़ियों पर चलती है. दुनिया की सबसे धीमाी गति से चलने वाली ट्रेन स्विट्जरलैंड के रमार्ट और सेंट मॉर्रिट्ज स्टेशनों के बीच चलती है.

 वैसे कहने के लिए ये एक एक्सप्रेस ट्रेन है, जिसका रफ्तार सामान्य ट्रेनों से अधिक होना चाहिए, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि इस ट्रेन की रफ्तार करीब 29 किलोमीटर प्रति घंटा है जो की बहुत ही ज़्यादा कम है.

ग्लेशियर एक्सप्रेस लगभग 290 किलोमीटर की दूरी को तय करने में 10 घंटे में तय करती है. इसी वजह से ग्लेशियर एक्सप्रेस को दुनिया की सबसे धीमी रफ्तार वाली एक्सप्रेस ट्रेन कहा जाता है.

 ऊंची पहाड़ियों के बीच इस ट्रेन की शुरुआत साल 1930 में की गई थी. शुरुआती दिनों में ये ट्रेन केवल गर्मियों के मौसम में चलती थी, क्योंकि जिस इलाके में ये ट्रेन चलती है वहां जबरदस्त बर्फबारी होती है.

 इसी वजह से बर्फीली पहाड़ियों से लोग दूर रहते थे उस समय इस ट्रेन में पैंसेजर डिब्बे लगाए गए थे, जिससे यात्रियों को काफी दिक्कत होती थी. ऊंची पहाड़ियों के बीच गुजरते हुए यात्रियों को टॉयलेट तक की सुविधा नहीं मिलती थी.

 लेकिन समय के साथ-साथ इसमें कई तरह के सुधार किए गए. बता दें कि वैसे धीमी रफ्तार की ट्रेन होना, इसे ये दर्जा मिलने के बाद स्विस लोगों से लेकर दुनियाभर के पर्यटक इसका अनुभव लेने आने लगे हैं.

 ट्रेन से यात्रा के दौरान लगभग 290 किलोमीटर के रास्ते में जहां हरी-भरी या बर्फीली पहाड़ियां दिखती हैं. वहीं 91 सुरंग और 291 पुल से होकर भी ये ट्रेन गुजरती है जो हर किसी का मन मोह लेती है.

पहाड़ियों से गुजरते हुए कई बार ऊंची-नीची ढलानें भी आती हैं. ऐसे में यात्रियों को खास तरह की वाइन पेश की जाती है. पेट में दर्द या उल्टियों की शिकायत ना हो.

 वाकई में इस ट्रेन से सफर करना काफी रोमांच से भरा होता है. इसीलिए तमाम लोग तो इस ट्रेन में पर्यटन के लिए है सफर करते हैं उन्हें कोई काम नहीं होता और वह इस ट्रेन में जाने जाने का लुत्फ उठाते हैं.