Categories
Weird News

विवाहिता को फ़ोन पर बात करने से रोकती थी सास, सपेरे से ले आई सांप और …

Spread the love

दुनिया भर में सर्पदंश के मामले अक्सर सामने आते रहते हैं जिसमें कि कुछ लोगों की मौत होती है और कुछ लोग बच जाते हैं हर साल लगभग 50 लाख घटनाएं पूरे विश्व में होती हैं जिसमें करीब 1 लाख लोगों की मौत हो जाती है विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2000 से 2019 के बीच सांप के द्वारा काटने के 12 लाख केस सामने आए हैं जिसमें से 58 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

यह तमाम मौतें एक हादसे के द्वारा हुई है मगर हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताते हैं जिसमें सांप का इस्तेमाल केवल एक अपराध को अंजाम देने के लिए किया गया इस केस की अपराधी एक महिला है जिसने सांप का इस्तेमाल करके अपनी सांस की हत्या कर दी और इस हत्याकांड में उसका साथ देता है वह औरत का आशिक।

यह मामला राजस्थान का है जहां एक महिला की शादी एक आर्मी मैन से हुई थी जो अपने गृह जिले से दूर तैनात था हालांकि महिला के ससुर भी नौकरी के सिलसिले से गृह जिले से दूर रहते थे घर में केवल सास और बहू रहते थे पति की गैरमौजूदगी में महिला अपने आशिक के साथ फोन पर बात करती थी। इसका पता उसकी सास को चला तो उसकी सास ने विरोध किया।

सांस की डांट-फटकार से आजिज आकर महिला ने खौफनाक साजिश रच दी और उस साजिश को हादसे का रूप दे दिया। आशिक ने अपने दोस्त के साथ मिलकर झुनझुनु जिले के एक सपेरे से जहरीला सांप लिया वह सांप को एक बैग में रख के उस महिला को दिया और महिला ने रात में वहीं बैग अपने सास के पास रख दिया और दूसरी सुबह बुजुर्ग सास मृत पाई गई। मृत महिला को जब अस्पताल ले जाया गया तो सर्पदंश से मौत का मामला बताया।

राजस्थान और दूसरे राज्यों में सर्पदंश से मौत सामान्य बातें झुनझुनु पुलिस भी इसे वैसे ही एक सामान्य हादसा मान कर चल रही थी लेकिन पुलिस पोषक तत्व जब घटना वाले दिन मृत महिला की बहू और एक शख्स के 20 सौ से ज्यादा बार फोन पर बातचीत हुई यह भी पता चला कि यह दोनों लंबे समय से एक दूसरे से फोन पर संपर्क में है वह शख्स कोई और नहीं मृत महिला की बहू का आशिक था।

पुलिस ने तहकीकात की तो पाया मृत महिला की बहू उसका आशिक और उसका दोस्त इन तीनों ने मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया तीनों अपराधियों को हिरासत में लिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *