Spread the love

महिला कांस्टेबल रूचि और तहसीलदार पद्मेश फेसबुक के माध्यम से पहले दोस्त बने फिर दोनों के बीच करीबिया बढ़ी और बात शादी और तालाक तक चली गई

आपको याद दिलाते चले की बीते दिनों महिला कांस्टेबल की लाश नाली से बरामद की गयी थी और हत्या की आशंका जताई जा रही थी इसी मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है

महिला कांस्टेबल पहले से शादीशुदा थी और उसका पति कांस्टेबल अंकित प्रयागराज में कार्यरत था इधर महिला कांस्टेबल रूचि का प्रेमी पद्मेश भी शादीशुदा था और उसकी पत्नी प्रगति भी नामवर नामक शख्स के प्यार में पड़ गई थी

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार महिला कांस्टेबल की हत्या पद्मेश, प्रगति और नामवर ने मिलकर की थी लेकिन मास्टरमाइंड प्रगति थी

पहले तीनो आरोपियों ने मिलकर रूचि को PGI अस्पताल में इलाज के बहाने बुलाकर नशीली इंजेक्शन देकर मारने की योजना बनायीं बेहरहाल वो योजना विफल हुआ उसके उपरांत आरोपियों ने रूचि को अनार के जूस में 10 नींद की गोलिया मिलाकर पिलाई उसके उपरांत माथे पर वार किया और गर्दन दबाकर रूचि की हत्या कर दी फिर नामवर रूचि की लाश को नाली में डाल कर प्रगति को सुचना दी की काम हो गया

आरोपित नामवर तहसीलदार पद्मेश के घर पर एक जमीनी विवाद को सुलझाने के लिए गया था। कई बार तहसीलदार और उसकी मुलाकात हुई, जिसके बाद वह उनके घर पर आने जाने लगा। नामवर पीजीआइ स्थित कल्ली में रहता था। प्रगति का इलाज कराने के लिए पद्मेश ने ड्राइवर के साथ उसे लखनऊ भेजा था।

इस दौरान पद्मेश ने नामवर को फोन कर इलाज कराने में मदद करने के लिए कहा था। प्रगति पीजीआइ में इलाज कराने आने लगी थी और नामवर उसके साथ रहता था। इसी दौरान दोनों में नजदीकियां बढ़ गई थीं, जिसकी जानकारी पद्मेश को नहीं थी।